Akbar Tumhe Maloom Hai Kya Mang Rahe Ho Noha Lyrics

Akbar Tumhe Maloom Hai Kya Mang Rahe Ho Noha Lyrics. Main Song Words Are Akbar Tumhe Maloom Hai Kya Mang Rahe Ho Tum Baap Se Marne Ki Reza Maang Rahe Ho.

Akbar Tumhe Maloom Hai Kya Mang Rahe Ho Noha Song Lyrics

Akbar Tumhe Maloom Hai Kya Mang Rahe Ho
Tum Baap Se Marne Ki Reza Maang Rahe Ho
Akbar Tumhe Maloom Hai Kya Mang Rahe Ho
Tum Baap Se Marne Ki Reza Maang Rahe Ho

Is Aalame Ghurbat Mein Tumhe Jaane Doon Kaise
Is Dashte Musibat Mein Tumhe Jaane Doon Kaise
Is Waqte Kayamat Mein Tumhe Jaane Doon Kaise
Ay Laal Jo Tum Izne Wigaa Maang Rahe Ho

Tum Baap Se Mar Ne Ki Riza Maang Rahe Ho
Akbar Tumhe Maloom Hai Kya Mang Rahe Ho
Tum Baap Se Marne Ki Reza Maang Rahe Ho

Kya Guzregi Iss Baap Ke Dil Par Nahin Socha
Tumne Ye Meri Jaan Ali Akbar Nahin Socha
Mar Jaunga Main Tujhse Bichhad Kar Nahi Socha
Tum Mujhse Zaeefi Ka Asaa Maang Rahe Ho

Tum Baap Se Mar Ne Ki Riza Maang Rahe Ho
Akbar Tumhe Maloom Hai Kya Mang Rahe Ho
Tum Baap Se Marne Ki Reza Maang Rahe Ho

Dil Rota Hain Nazron Se Agar Door Ho Beta
Kis Tarha Judaai Teri Manzoor Ho Beta
Tum Hi Meri Ankhein Ho Mera Noor Ho Beta
Mujhse Meri Ankhon Ki Ziya Maang Rahe Ho

Tum Baap Se Mar Ne Ki Riza Maang Rahe Ho
Akbar Tumhe Maloom Hai Kya Mang Rahe Ho
Tum Baap Se Marne Ki Reza Maang Rahe Ho

Duniya Se Gaya Jis Ghadi Mehboob Khuda Ka
Nana Ki Ziyarat Ko Tadapta Tha Nawassa
Aye Laal Tujhe Is Liye Khaalik Se Tha Manga
Maqbool Huwi Meri Dua Maang Rahe Ho

Tum Baap Se Mar Ne Ki Riza Maang Rahe Ho
Akbar Tumhe Maloom Hai Kya Mang Rahe Ho
Tum Baap Se Marne Ki Reza Maang Rahe Ho

Islam Pe Khud Apna Lahoo Rann Mein Bahao
Sine Pe Sina Shaan Se Maidaan Mein Khaao
Tasweer Payambar Ki Tahe Khaak Milao
Kya Is Liye Marne Ki Riza Maang Rahe Ho

Tum Baap Se Mar Ne Ki Riza Maang Rahe Ho
Akbar Tumhe Maloom Hai Kya Mang Rahe Ho
Tum Baap Se Marne Ki Reza Maang Rahe Ho

Ek Roz Tujhe Aan Ke Manga Tha Phuphi Ne
Atthara Baras Naazon Se Paala Tha Phuphi Ne
Beton Se Bhi Zyada Tumhe Chaha Tha Phuphi Ne
Ehsaan Jo Zainab Ne Kiya Maang Rahe Ho

Tum Baap Se Mar Ne Ki Riza Maang Rahe Ho
Akbar Tumhe Maloom Hai Kya Mang Rahe Ho
Tum Baap Se Marne Ki Reza Maang Rahe Ho

Rakhte Nahi Tum Iski Khabar Aye Mere Pyare
Kis Darja Mohabbat Hai Teri Dil Mein Humaare
Nana Ki Mere Shakl Hai Paikar Mein Tumhare
Tum Soorate Mehboobe Khuda Maang Rahe Ho

Tum Baap Se Mar Ne Ki Riza Maang Rahe Ho
Akbar Tumhe Maloom Hai Kya Mang Rahe Ho
Tum Baap Se Marne Ki Reza Maang Rahe Ho

Sar Tera Bhi Jiss Waqt Chadhega Sare Naiza
Hoga Sare Maidaan Juda Sar Bhi Tumhara
Hum Shakle Payambar Ka Gala Kaatenge Aadaa
Goya Mere Nana Ka Gala Maang Rahe Ho

Tum Baap Se Mar Ne Ki Riza Maang Rahe Ho
Akbar Tumhe Maloom Hai Kya Mang Rahe Ho
Tum Baap Se Marne Ki Reza Maang Rahe Ho

Baba Mujhe Maloom Hai Kya Maang Raha Hoon
Ek Baap Se Marne Ki Riza Maang Raha Hoon

Baba Mujhe Amma Ne Bhi Kuch Dars Diya Hai
Adab e Wafa Se Mujhe Aagah Kiya Hai
Pehle Mein Maru Aap Se Wada Ye Liya Hai
Buss Is Liye Marne Ki Riza Maang Raha Hoon

Ek Baap Se Marne Ki Riza Maang Raha Hun
Baba Mujhe Maaloom Hai Kya Maang Raha Hun
Ek Baap Se Marne Ki Riza Maang Raha Hun

Hai Aap To Baba Bine Khaatoone Qayamat
Aur Maa Hai Meri Adna Si ek Pehkare Ismat
Kya Sine Mein Us Pe Nahin Kuch Jalbahe Ismat
Mein Madare Muztar Ka Kaha Maan Raha Hoon

Ek Baap Se Marne Ki Riza Maang Raha Hun
Baba Mujhe Maaloom Hai Kya Maang Raha Hun
Ek Baap Se Marne Ki Riza Maang Raha Hun

Baba Mujhe Ehwaale Dile Zaar Pata Hai
Hai Sakht Bohat Manzile Dushwaar Pata Hai
Aur Deen Ka Mushkil Mein Hai Sardaar Pata Hai
Yun Aap Se Marne Ki Riza Mangu Raha Hoon

Ek Baap Se Marne Ki Riza Mangu Raha Hun
Baba Mujhe Maloom Hai Kya Maang Raha Hun
Ek Baap Se Marne Ki Riza Maang Raha Hun

Mai Shaer E Has Aat Jigar Soz Hu Khursheed
Mehve Gham E Shabbir Shab O Roz Hu Khurshid
Aalaam E Masaeb Se Zamee’n Doz Hu Khurshid
Kashkol Me Kuch Ashq E Aza Maang Raha Hu

Ek Baap Se Marne Ki Riza Mangu Raha Hun
Baba Mujhe Maloom Hai Kya Maang Raha Hun
Ek Baap Se Marne Ki Riza Maang Raha Hun

Lyrics In Hindi

अकबर तुम्हें मालूम है क्या माँग रहे हो
तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो

इस आलमे ग़ुरबत में तुम्हें जाने दूँ कैसे
इस दश्ते मुसीबत में तुम्हें जाने दूँ कैसे
इस वक़्ते कयामत में तुम्हें जाने दूँ कैसे
अये लाल जो तुम इज़्ने विग़ा माँग रहे हो

तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो
अकबर तुम्हें मालूम है क्या माँग रहे हो
तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो

क्या गुज़रेगी इस बाप के दिल पर नहीं सोचा
तुमने ये मेरी जान अली अकबर नहीं सोचा
मर जाऊँगा मैं तुझसे बिछड़ कर नही सोचा
तुम मुझसे ज़ईफ़ी का असा माँग रहे हो

तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो
अकबर तुम्हें मालूम है क्या माँग रहे हो
तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो

दिल रोता हैं नज़रों से अगर दूर हो बेटा
किस तरहा जुदाई तेरी मंज़ूर हो बेटा
तुम ही मेरी आँखें हो मेरा नूर हो बेटा
मुझसे मेरी आँखों की ज़िया माँग रहे हो

तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो
अकबर तुम्हें मालूम है क्या माँग रहे हो
तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो

दुनिया से गया जिस घड़ी महबूब ख़ुदा का
नाना की ज़ियारत को तड़पता था नवासा
अये लाल तुझे इसलिए ख़ालिक़ से था माँगा
मक़बूल हुई मेरी दुआ माँग रहे हो

तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो
अकबर तुम्हें मालूम है क्या माँग रहे हो
तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो

इस्लाम पे खुद अपना लहू रन में बहाओ
सिने पे सिना शान से मैदान में खाओ
तस्वीर पयम्बर की तहे ख़ाक़ मिलाओ
क्या इसलिए मरने की रिज़ा माँग रहे हो

तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो
अकबर तुम्हें मालूम है क्या माँग रहे हो
तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो.

एक रोज़ तुझे आन के माँगा था फूफी ने
अट्ठारह बरस नाज़ों से पाला था फूफी ने
बेटों से भी ज़्यादा तुम्हें चाहा था फूफी ने
एहसान जो ज़ैनब ने किया माँग रहे हो

तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो
अकबर तुम्हें मालूम है क्या माँग रहे हो
तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो

रखते नहीं तुम इसकी ख़बर अये मेरे प्यारे
किस दर्जा मोहब्बत है तेरी दिल में हमारे
नाना की मेरे शक्ल है पैकर में तुम्हारे
तुम सूरते महबूबे ख़ुदा माँग रहे हो

तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो
अकबर तुम्हें मालूम है क्या माँग रहे हो
तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो

सर तेरा भी जिस वक़्त चढ़ेगा सरे नैज़ा
होगा सरे मैदान जुदा सर भी तुम्हारा
हमशक़्ले पयम्बर का गला काटेंगे आदा
गोया मेरे नाना का गला माँग रहे हो

तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो
अकबर तुम्हें मालूम है क्या माँग रहे हो
तुम बाप से मरने की रिज़ा माँग रहे हो

बाबा मुझे मालूम है क्या माँग रहा हूँ
एक बाप से मरने की रिज़ा माँग रहा हूँ

बाबा मुझे मालूम है क्या माँग रहा हूँ
एक बाप से मरने की रिज़ा माँग रहा हूँ

बाबा मुझे अम्मा ने भी कुछ दर्स दिया है
आदाबे वफ़ा से मुझे आगाह किया है
पहले मैं मरूँ आपसे वादा ये लिया है
बस इसलिए मरने की रिज़ा माँग रहा हूँ

एक बाप से मरने की रिज़ा माँग रहा हूँ
बाबा मुझे मालूम है क्या माँग रहा हूँ
एक बाप से मरने की रिज़ा माँग रहा हूँ

बाबा मुझे मालूम है क्या माँग रहा हूँ
है आप तो बाबा इब्ने ख़ातूने क़यामत
और माँ हैं मेरी अदना सी एक पैकरे इस्मत
क्या सीने में उसके नहीं कुछ जज़्बये इस्मत
मैं मादरे मुज़तर का कहा माँग रहा हूँ

एक बाप से मरने की रिज़ा माँग रहा हूँ
बाबा मुझे मालूम है क्या माँग रहा हूँ
एक बाप से मरने की रिज़ा माँग रहा हूँ

बाबा मुझे एहवाले दिलेज़ार पता है
है सख़्त बहोत मंज़िले दुशवार पता है
और दीन का मुश्किल में है सरदार पता है
यूँ आप से मरने की रिज़ा माँग रहा हूँ

एक बाप से मरने की रिज़ा माँग रहा हूँ
बाबा मुझे मालूम है क्या माँग रहा हूँ
एक बाप से मरने की रिज़ा माँग रहा हूँ

मैं शायरे हस्सास जिगरसोज़ हूँ “खुर्शीद”
महवे ग़में शब्बीर शबो-रोज़ हूँ “खुर्शीद”
आलामों मसायब से ज़मींदोज़ हूँ खुर्शीद
कशकोल में कुछ अश्क़े अज़ा माँग रहा हूँ

एक बाप से मरने की रिज़ा माँग रहा हूँ
बाबा मुझे मालूम है क्या माँग रहा हूँ
एक बाप से मरने की रिज़ा माँग रहा हूँ

बाबा …………….बाबा……………..बाबा

एक बाप से मरने की रिज़ा माँग रहा हूँ

Mera Sehriyan Wala Akbar Noha Lyrics